Headlines
Loading...
एक निहत्थे पत्रकार को गुंडे मवाली की तरह पाटलिपुत्र थाने में  पीटते रहे पुलिसकर्मी, हालत गंभीर!

एक निहत्थे पत्रकार को गुंडे मवाली की तरह पाटलिपुत्र थाने में पीटते रहे पुलिसकर्मी, हालत गंभीर!



न्यूज़ डेस्क: पटना। अभी-अभी राजधानी पटना के पाटलिपुत्र थाना परिसर से बहुत बड़ी खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि खबर कवर करने गए एक पत्रकार से पाटलिपुत्र थाना परिसर में ही पुलिसवालों के द्वारा बदसलूकी और मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया है। जिसके बाद पत्रकार जयकांत चौधरी को परिजनों के द्वारा PMCH में इलाज के लिए ले जाया गया है।



गिड़गिड़ाते रहे फिर भी नहीं सुने पुलिस वाले:

इस पूरे प्रकरण के दौरान पत्रकार जयकांत चौधरी पुलिस वालों के सामने गिड़गिड़ाते रहे। परिचय देते रहे। यहां तक की चैनल और विधानसभा की ओर से मिलने वाले पहचान पत्र तक दिखाया। उसके बाद भी जिस मोबाइल से वो वीडियो बना रहे थे। उसे छीन लिया गया। इससे भी मन नहीं भरा तो रंगरूट पुलिस वाले मारते घसीटते रहे। बाद में एक रूम में ले जाकर पत्रकार जयकांत चौधरी को बंद कर दिया।



फुटेज को डिलीट करने बाद पत्रकार को पुलिस वालों ने छोड़ा:

बंधक बनाए गए पत्रकार के मोबाइल से वो तमाम फुटेज को पुलिस वालों के द्वारा डिलीट कर दिया गया। जो उन्होंने थाना परिसर के अंदर कैप्चर किया था। फिर मोबाइल भी सौंप दी गई। और पत्रकार को छोड़ दिया गया। जैसे तैसे जयकांत चौधरी रूम पर पहुंचे। जब परिजनों ने इस हालत में देखा तो उनके भी होश उड़ गए। जिसके बाद तुरंत उन्हें PMCH ले जाया गया है। इस बात कि जानकरी देते हुए पत्रकार की पत्नी रीना चौधरी ने कहा है कि मेरे पति की हालत बहुत नाजुक है। मैं PMCH लेकर पहुंच रही हूँ। नाक से ब्लीडिंग हो रहा है। और अंदरूनी दर्द के कारण कराह रहे हैं।गौरतलब है कि पत्रकारों से मारपीट बिहार में आम बात हो गई है। जबकि बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय ने हाल ही में पत्रकारों की सुरक्षा के मद्दे नजर एक एडवाजरी जारी किया था। जिसमें स्पष्ट तौर पर आदेश भी दिए गए थे कि पुलिस पदाधिकारी पत्रकारों को कवरेज के दौरान सहयोग करें। न की मारपीट। अब देखना होगा कि इस घटना के बाद बिहार पत्रकार यूनियन क्या कुछ करता है।