Headlines
Loading...
इस बिमारी का इतना महंगा इलाज जान ले लेगा

इस बिमारी का इतना महंगा इलाज जान ले लेगा

Bihar Darpan News

बदलते लाइफ़ स्टाइल और बदलते खान पान से बिमारियों का बोझ बढ रहा है डायबिटीज, ब्लडप्रेशर , मोटापा, थाइराइड जैसी बिमारियों कि लोग तेजी से विकिरण हो रहे है लेकिन जिस तेजी से बीमारियों बढ रही है उसी तेजी से बीमारियों का इलाज भी महंगा हो रहा है सरकारी अस्पतालों मे इलाज सस्ता है लेकिन नम्बर नही आता इस वजह से लोग नीजी अस्पतालों कि ओर रुख़ करते है नीजी अस्पताल मे इलाज कराना कितना महंगा होता है ये बात कर कोई जानता है NSO के रिपोर्ट के मुताबिक सरकारी अस्पताल के मुताबिक नीजी अस्पताल इलाज कराना 07 गुना महंगा पड़ता है रिपोर्ट के अनुसार सरकारी अस्पताल मे इलाज कराने का खर्च  ₹4452 है जबकि नीजी अस्पतालों मे ये खर्च ₹31945 रुपये है NSO के रिपोर्ट 2017-18 के अवधि पर आधारित है ये रिपोर्ट 113000 परिवार के सर्वेक्षण पर आधारित है अस्पताल मे भर्ती होने वाले 40 % लोग सरकारी अस्पताल का रूख करते है जबकि 55% लोग नीजी अस्पतालों का रुख़ करते हैं गैर सरकारी अस्पतालों मे भर्ती होने वाले का अनुपात 02.07% रहा ,  ग्रामिण इलाको मे सरकारी अस्पताल मे प्रसव के लिए भर्ती होने का खर्च औसत ₹2404  रुपये रहा जबकि नीजी अस्पताल मे खर्च ₹20768 रुपये रहा ,  ऐसे ही शहरों क्षेत्रों मे सरकारी अस्पताल मे प्रसव के लिए कुल खर्च ₹3106 रुपये रहा जबकि यही खर्च नीजी अस्पताल मे ₹29105 रहा रिपोर्ट के मुताबिक 88% प्रसव मामलो मे आपरेशन किया गया ,  आदमी को सस्ता और बढिया इलाज करवाने के लिए अभी सरकार को और कदम उठाने पडेंगे