Headlines
Loading...
दो महिलाओं के अहम के बीच पीस रही जनता

दो महिलाओं के अहम के बीच पीस रही जनता

रिपोर्ट- रवि शंकर शर्मा
बाढ़ नगर परिषद में इनदिनों गंदगी का अंबार तो लगा ही है साथ ही सारे विकास कार्य अवरुद्ध हैं।दरअसल नगर परिषद के मुख्य पार्षद और कार्यकारी पदाधिकारी के बीच चल रहे अहम के टकराव के कारण आम जनता त्रस्त है।मुख्य पार्षद ने कार्यपालक पदाधिकारी पर तानाशाही रवैये का आरोप लगाकर मोर्चा खोल रखा है तो वहीं कार्यकारी पदाधिकारी ने मुख्य पार्षद पर वित्तीय अनियमितता और भ्रष्टाचार का आरोप लगा रखा है।इस मामले में एक बार मुख्य पार्षद शकुंतला देवी कार्यपालक पदाधिकारी के कार्यालय के आगे जमीन पर धरना देने बैठ गई।इसी प्रकार आये दिन कोई ना कोई नौटंकी देखने को मिल रहा है जिससे विकास कार्य अवरुद्ध हो गया है।स्थिति अब इतनी गंभीर हो चली है कि कचड़ा उठाव भी बंद हो गया है जिससे लोग महामारी फैलने के डर से सशंकित हुए बैठे हैं।ऊपर से आगामी 28 नवंबर से बाढ़ नगर परिषद के दर्जन भर वार्ड पार्षद एक बार फिर से  अनिश्चितकालीन हड़ताल करने पर अड़ गए हैं।इसके लिये तमाम आला अधिकारी को पत्र भेजकर बता दिया गया है। तो वहीं दूसरी तरफ बाढ़ नगर परिषद के सभी 27 वार्डो में गंदगी से महामारी की स्थिति बनती दिख रही है । कार्यपालक पदाधिकारी सुश्री जया और नगर परिषद के वार्ड सदस्यों की एक टीम आमने सामने हो चली है जिसने स्थिति को विकट कर रखा है। जनसेवक का दावा करने वाले जनप्रतिनिधि शकुंतला देवी और जनता के पैसे से तनख्वाह पा रहीं कार्यपालक पदाधिकारी में से कोई भी झुकने को तैयार नही है। तो जनता विवश होकर तमाशा देख रही है।