Headlines
Loading...
फतुहा- 12 वर्षीय मासूम की गोलीमारकर हत्या

फतुहा- 12 वर्षीय मासूम की गोलीमारकर हत्या



फतुहा। फतुहा से एक बेहद गंभीर और सनसनीखेज मामला सामने आया है जहाँ शनिवार की दोपहर खुसरुपुर थाना क्षेत्र के जगमाल बिगहा गांव में छत पर बैठे बारह वर्षीय किशोर को उसके पडोस के दोस्त ने ही गोली मार कर हत्या कर दी। इसके बाद हत्या का आरोपी बगल के छत के सहारे कुदकर फरार हो गया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची तथा आरोपी के घर छापेमारी की लेकिन आरोपी घर से फरार था। पुलिस ने शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए पटना भेज दिया। मृतक किशोर की पहचान गांव के ही उदय शर्मा के पुत्र कन्हैया कुमार के रुप मे हुई है। बताया जाता है कि शनिवार को सुबह मृतक कन्हैया का उसके बगल के ही दोस्त संजीत कुमार के चौदह वर्षीय पुत्र शिवम कुमार के साथ कुछ तीखी बहस हुई थी। उसके बाद दोनो के बीच मामला शांत हो गया था। लेकिन दोपहर में जब मृतक कन्हैया अपनी बहन के साथ अपने घर के ही छत पर बैठा था तो आरोपी शिवम वंहा पहुंच गया और उसके बहन को किसी काम का बहाना बनाकर नीचे भेज दिया। उसके बहन के जाते ही शिवम ने देशी कट्टे से उसके सिर मे गोली मार दी। तथा आरोपी शिवम बगल के छत के सहारे कुदकर फरार हो गया। गोली की आवाज सुनते ही मृतक किशोर के परिजन छत पर पहुंचे तो देखा कि कन्हैया छत पर खुन से लथपथ गिरा पड़ा है तथा उसकी मौत हो चुकी है। घटना की जानकारी होते ही उसके घर में तो कोहराम मचा ही साथ ही पुरे गांव में सन्नाटा पसर गया। मृतक कन्हैया खुसरुपुर मे ही एक निजी विद्यालय मे नवम वर्ग का छात्र था। आरोपी शिवम के बारे मे बताया जाता है कि वह पहले रांची में किसी रिश्तेदार के यंहा रहकर पढ़ाई कर रहा था लेकिन उसकी हरकतो से बाज आकर रिश्तेदार ने उसे वंहा से भगा दिया। इसके बाद से वह गांव मे ही रह रहा था। थानाध्यक्ष सरोज कुमार की माने तो घटना का कारण स्पष्ट नही है, लेकिन सभी दृष्ष्टकोण से मामले की छानबीन की जा रही है। घटनाओं के बाद पुलिसिया जाँच कानूनी प्रक्रिया का एक हिस्सा है वो होता रहेगा, परन्तु सबसे बड़ा सवाल की इतने छोटे छोटे बच्चे के पास हथियार कहाँ से आये? आखिर हम अपने बच्चों पर कितना ध्यान दे रहे हैं और कहाँ जा रहा है हमारा समाज? ये एक बेहद गंभीर विषय है जिसके बारे में गंभीरता से सोंचना ना सिर्फ सरकार बल्कि हर नागरिक औऱ हर माता पिता का फर्ज है। अगर हम अब भी ना जागे तो इस समाज मे इंसान के रूप में जानवर 
घूमते नजर आएंगे और ये समाज एक जंगल बनकर रह जायेगा।
(रिपोर्ट- रवि शंकर शर्मा)