Headlines
Loading...
मुख्यमंत्री का स्वागत पर हेलीपैड का विरोध

मुख्यमंत्री का स्वागत पर हेलीपैड का विरोध



पटना ग्रामीण से रवि शंकर शर्मा की रिपोर्ट

जल जीवन हरियाली यात्रा को लेकर मुख्यमंत्री के प्रस्तावित मोकामा आगमन को लेकर लोगों में उत्साह तो जरूर है कि सी एम आयेंगे तो टाल समस्या ,राजेंद्रसेतु समस्या समेत विभिन्न समस्याओं का निदान करेंगे।सी एम आगमन की लोग बाट तो जरूर जोह रहे हैं परंतु साथ ही हेलीपैड बनाने को लेकर विवाद शुरू हो गया है।जिनकी जमीन ली जा रही है वे सभी किसान एकजुट होकर विरोध कर रहे हैं। किसानों का कहना है कि हेलिपैड बनने से हमारी जमीन अगले 5 वर्षों के लिये बंजर हो जायेगी इसलिये 5 वर्षों का फसल मुआवजा पहले दे दें फिर हेलिपैड बनाएँ, वरना हम किसान जान दे देंगे।किसानों ने प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का हवाला देते हुए कहा कि दो साल बाद भी आजतक उसका मुआवजा नही मिला है और जमीन भी उपज के लिये उपयुक्त नही हुई अबतक।अतः ऐसे में हम पहले 5 वर्षों का मुआवजा लेंगे तभी हेलिपैड बनाने देंगे।किसानों ने सुझाव देते हुये कहा कि कार्यक्रम स्थल से 5 मिनट की दूरी पर हाई स्कूल तथा सी आर पी एफ कैम्प है जहाँ दर्जनों बार हेलीकॉप्टर उतरे हैं फिर वहाँ क्यों नही उतारा जाता?हालाँकि मोकामा सी ओ रामप्रवेश राम ने बताया कि जल्द ही इन सभी किसानों के नुकसान का आकलन कर उचित मुआवजा दे दिया जायेगा और  हेलीपैड बनाने में जो भी सामग्री लगेगी उसे बाद में हटाकर किसानों की जमीन पूर्ववत लौटा दी जायेगी।लेकिन किसानों का मुँह पी एम के कार्यक्रम के बाद मुआवजे की राशि ना मिलने से जला हुआ है और इसीलिए वे पहले मुआवजे की माँग पर अड़े हैं।कुल 6 बीघे जमीन हेलिपैड के लिये लिया गया है जिसमे अभी फसल लगी है।पीड़ित किसानों में राजीव कुमार, रंजीत कुमार, अजित कुमार सिंह, अशोक सिंह, जयकिशन ,सुभाष ,राहुल आदि शामिल थे।