Headlines
Loading...
 महाराजगंज मे व्यवहार न्यायालय की स्थापना को लेकर व्यवसायियों का प्रदर्शन

महाराजगंज मे व्यवहार न्यायालय की स्थापना को लेकर व्यवसायियों का प्रदर्शन



महाराजगंज अनुमंडल व्यवहार न्यायालय की स्थापना के लेकर महाराजगंज व्यवसायी संघ के तत्वावधान में शुक्रवार को चन्द्रशेखर पुस्तकालय सह पूर्व अनुमंडल कार्यालय के मुख्य गेट पर स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान राजद नेता अरविंद कुमार गुप्ता ने कहा कि महाराजगंज में व्यवहार न्यायालय के स्थापना के लिए चन्द्रशेखर पुस्तकालय सह पूर्व अनुमंडल कार्यालय में रखे गए उपस्कर को वापस मंगाए जाने की चिठ्ठी निर्गत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि व्यवहार न्यायालय के स्थापना के लिए स्थानीय स्तर पर इसमें जितने सहयोग की आवश्यकता होगी मिलता रहेगा। लेकिन पता नहीं किस परिस्थितियों में जिला स्तर और जिला न्यायिक स्तर से महाराजगंज के इस कोर्ट को पुनः स्थानांतरित कर सिवान ले जाने की साजिश रची जा रही है। जो यहां के लोगों के लिए घोर अन्याय है। इसे महाराजगंज की जनता किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेगी। 
व्यवहार न्यायालय स्थानांतरित नहीं होने देंगी चाहे इसके लिए यहां की जनता हर स्तर पर इसका विरोध करेगी। उन्होंने कहा कि अनुमंडलवासियों के सुविधा के लिए यथाशीघ्र व्यवहार न्यायालय की स्थापना हो। विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए जदयू नेता हरिशंकर प्रसाद आशीष ने कहा जिस तरह से महाराजगंज की जनता शांतिपूर्ण ढंग से लंबी लड़ाई लड़कर व आंदोलन कर महाराजगंज को अनुमंडल का दर्जा प्रदान कराया था उसी तरह से यहाँ की जनता व्यवहार न्यायालय के लिए आंदोलन करेगी और इसके लिए आमरण अनशन शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने महाराजगंज की जनता को न्यायालय स्थापित करने का जो आश्वासन  किया था उसका अनुपालन किया जाए। 

डीजे साजिश के तहत उपस्कर वापस मंगा रहे है
1991 में महाराजगंजअनुमंडल की स्थापना हुई तब से लेकर यहां की जनता न्यायालय की स्थापना के लिए मांग करती रही। लेकिन प्रशासन और जनप्रतिनिधि के द्वारा इसका अपेक्षा किया गया। जैसे ही यहां के व्यवसायी वर्ग व प्रबुद्ध वर्ग को पता चला की जो अनुमंडल न्यायालय की स्थापना के लिए समान आए है उसे यहां एक षड्यंत्र के तहत जिला जज सिवान के द्वारा वापस मंगाया जा रहा है। यहां के व्यवसायी स्वत: अपनी दुकानें बंद करके चंद्रशेखर पुस्तकालय सह पूर्व  अनुमंडल कार्यालय के मुख्य द्वार पर खड़े होकर इसका विरोध कर रहे है। वे कह रहे है कि हम मर जाएंगे लेकिन यहां से एक भी सामान वापस नहीं जाने देंगे। जब तक व्यवहार न्यायालय का उद्घाटन नहीं हो जाता तब तक हम लोग इसका विरोध करते रहेंगे। मौके पर अरविंद गुप्ता,रामविलास साह, पन्नालाल यादव, प्रदीप कुमार, परशुराम सिंह, दिनेश चौधरी, अजीत कुमार शर्मा, हरिशंकर आशीष,विष्णु कुमार पद्माकर, जगदीश सिंह,बृजेश कुमार सिंह,प्रदीप प्रसाद,संजय प्रसाद, विजय शंकर दुबे,त्रिपुरारी शरण सिंह,सत्येंद्र ठाकुर,हरि प्रकाश गुप्ता आदि उपस्थित थे।
___________________________________________
बिहार दर्पण न्यूज़ एप्स डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें 

👇🏻👇🏻💯💯👇🏻👇🏻

______________________________________________