Headlines
Loading...
90 दिन पश्चात सेवा समाप्ति की बातें कोरी बकवास:जयप्रकाश।

90 दिन पश्चात सेवा समाप्ति की बातें कोरी बकवास:जयप्रकाश।





 आरा।टेट एसटेट उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ के राज्य कार्यकारिणी सदस्य जयप्रकाश ने कहा कि सरकार की कारगुजारियां व्यक्तिगत हड़ताल को समाप्त कराने की है।लेकिन सरकार भूल रही है कि कोई भी शिक्षक व्यक्तिगत रूप से नहीं बल्कि समन्वय समिति के आह्वान पर हड़ताल पर गया है।इसलिए सरकार को मानक रूप अपनाकर कोर कमिटी से वार्ता कर हड़ताल समाप्त करना चाहिए न कि फूट डालो राज करो की नीति अपनाकर। बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति भोजपुर के अध्यक्ष मंडल सदस्य सह् जिला अध्यक्ष टेट एसटेट उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ के अजय कुमार सिंह एवं महासचिव कुन्दन सिंह ने बताया कि बिहार राज्य पंचायत नगर प्रारंभिक के अंतर्गत बहाल शिक्षकों पर 90 दिन पश्चात सेवा समाप्ति की उपबंध नहीं लागू होती है।तो  सरकार के सिपहसालार द्वारा शिक्षकों के बीच भ्रम फैला कर हड़ताल खत्म करवाना की सरकारी षड्यंत्र है। शिक्षा विभाग के अधिकारी नहीं चाहते कि हड़ताल समाप्त हो।संयोजक शशांक भूषण पाण्डेय , प्रवक्ता पंकज पाठक ने जिला मीडिया प्रभारी सत्येन्द्र यादव के हवाले से बताया कि शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव एवं विभिन्न जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी के पत्र में भारी अंतर है। सात सूत्रीय मांगों से ध्यान हटाने के लिए हड़ताल को जानबूझकर लंबा खींचने की विभागीय अधिकारियों की कुचक्र है। वरीय उपाध्यक्ष प्रेमचंद कुशवाहा संगठन सचिव जितेन्द्र पटेल एवं अशोक सिंह ने कहा कि सरकार अपनी हठधर्मिता एवं स्वयं प्रभुता सिद्ध करने के लिए बिहार के चार लाख शिक्षकों के बीस लाख परिवारों के आर्थिक एवं मानसिक शोषण कर रहीं हैं।महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष नम्रता वर्मा एवं उपाध्यक्ष विनीता सिंह ने कहा हड़ताल अवधि में शिक्षकों की मौत संस्थागत मौत है।जिसके लिए बिहार सरकार पूर्ण रूपेण जिम्मेदार है।विभिन्न प्रखंडों के अध्यक्ष अभिनव सिंह,आरिफ रौनक,विकास कुमार सिंह,शिशिर कुमार सिंह,जयप्रकाश मिश्र,वरूण ओझा  शौरेन्द्र कुमार,ब्रह्म शंकर पाण्डेय ने कहा कि टेट एसटेट उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के आन्दोलन का सहभागी है।पूर्ण परिणाम प्राप्त करने तक आन्दोलन में शामिल रहेंगे।

(सौरभ श्रीवास्तव आरा से)