Headlines
Loading...
पूर्व मध्य रेल ने 40 हजार मास्क और 05 हजार लीटर सेनिटाइजर खुद किया तैयार

पूर्व मध्य रेल ने 40 हजार मास्क और 05 हजार लीटर सेनिटाइजर खुद किया तैयार



कोविड-19 के मद्देनजर पूरे देश में लॉकडाउन है । इसका एकमात्र उद्देश्य इस खतरनाक वायरस के फैलाव को रोकना है । ऐसे में प्रतिदिन करोड़ों यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने वाली रेल उनके व्यापक स्वास्थ्य हित को देखते हुए 14 अप्रैल तक के लिए स्थगित की गई है । परंतु आम लोगों को आवश्यकता के चीजें उपलब्ध हो सकें, इसके लिए मालगाड़ियों का परिचालन निरंतर जारी रहे, इसके लिए पूर्व मध्य रेल के लगभग 30 हजार रेलकर्मी दिन-रात ड्यूटी पर तैनात हैं । 

इन कर्मचारियों के लिए इस जानलेवा वायरस से बचाव काफी महत्वपूर्ण है ताकि ये अपने घर से निकलकर अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन कर पाएं। कोविड-19 से बचाव की सामग्री जैसे मास्क, सेनिटाइजर, कीटनाशक आदि की अचानक मांग बढ़ जाने के कारण बाजार में ये आसानी से उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं । ऐसे चुनौतिपूर्ण समय में मालगाड़ियों का परिचालन सुचारू रूप से हो सके इसके लिए अपनी दोहरी जिम्मेवारियों का निर्वहन करते हुए पूर्व मध्य रेल द्वारा अपने रेलकर्मियों के लिए फेसमास्क, सेनिटाइजर तथा कीटनाशक छिड़काव आदि स्वयं तैयार किया जा रहा है । 

 इसी कड़ी में पूर्व मध्य रेल द्वारा रेलकर्मियों को मास्क, सेनिटाइजर सहित अन्य सुरक्षात्मक किट
उपलब्ध कराने की दिशा में कार्य करते हुए दिनांक 09 अप्रैल को एक दिन में मंडलों एवं मुख्यालय द्वारा कुल 3411 मास्क तथा 333 लीटर सेनिटाइजर तैयार किए गए । इस प्रकार प्रारंभ सेे अब तक पूर्व मध्य रेल द्वारा लगभग 40 हजार मास्क और 05 हजार लीटर सेनिटाइजर तैयार किए जा चुके हैं । इसी क्रम में छिड़काव हेतु 8463 लीटर कीटनाकशक भी बना लिए गए हैं ।
धनबाद मंडल द्वारा 15317, दानापुर मंडल द्वारा 3305, समस्तीपुर मंडल द्वारा 2297, सोनपुर मंडल द्वारा 11938, पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल द्वारा 6533 तथा मुख्यालय द्वारा 872 मास्क तैयार किए गए हैं । इसी तरह धनबाद मंडल द्वारा 4360 लीटर, दानापुर मंडल द्वारा 90 लीटर, समस्तीपुर मंडल द्वारा 48 लीटर, सोनपुर मंडल द्वारा 21 लीटर, पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल द्वारा 294 लीटर तथा मुख्यालय द्वारा 50 लीटर सेनिटाइजर तैयार किए गए हैं । इसी क्रम में दानापुर मंडल द्वारा 8000 तथा पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल द्वारा छिड़काव हेतु 463 लीटर कीटनाकशक भी तैयार किए गए हैं ।