Headlines
Loading...
नल जल योजना का खुला पोल।।

नल जल योजना का खुला पोल।।



सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में शुमार मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत सूबे के हर घर तक नल का जल पहुंचाना भी शामिल है। लेकिन अब तक कई घरों तक नल का जल नहीं पहुंच सका है। पकरियाबर के असनी पंचायत के वार्ड 10 में हर घर नल का जल पहुंचाने के लिए बोरिंग कर सबमर्सिबल पंप भी लगा दिया गया है। पानी की सप्लाई के लिए टावर भी खड़ा कर दिया गया है।

लोगों के घरों तक अभी तक नल का जल नहीं पहुंच सका है। गांव की गलियों में आधा अधूरा पाइप बिछा कर कोरम पूरा करने की गई है। लेकिन अब तक किसी घर को एक बूंद भी नल का जल नसीब नहीं हुआ है। इसे लेकर गांव के लोगों मे काफी नाराजगी है। मजबूरन लोग कुआँ से जरूरत के अनुसार पानी की व्यवस्था कर रहे हैं। पानी सप्लाई के लिए लगाया गया सबमर्सिबल बेकार पड़ा हुआ है।

टावर तो बन गया लेकिन नहीं लगा वाटर टैंक


बता दें कि सरकार द्वारा गांवों में शहरों जैसी सुविधा मुहैया कराने के लिए सात निश्चय योजना की शुरुआत की गई है। लेकिन इस योजना के शुरू होते ही लूट खसोट की होड़ मच गई है। भोजपुर के असनी पंचायत के पकरियाबर गांव के वार्ड 10 के लिए नल जल योजना बेकार साबित हो रही है। योजना की जब शुरुआत हुई तो पानी सप्लाई के लिए बोरिंग करा कर सबमर्सिबल लगाया गया। पानी आपूर्ति के लिए टावर खड़ा कर दिया गया। जिस पर 5 हजार लीटर का टैंक रख वार्ड में पानी की सप्लाई दी जानी थी। लेकिन वार्ड में बने टावर पर अब तक न तो वाटर टैंक लगा न ही सबमर्सिबल के लिए विद्युत कनेक्शन ही लिया गया है। लाखों के खर्च से बना टावर बेकार पड़ा हुआ है ग्रामीणों ने बताया कि गांव में बोरिंग करा कर सबमर्सिबल लगाए हुए सालो बीत चुके हैं लेकिन घरों तक पानी नहीं पहुंच सका है। वार्ड की गलियों में आधा अधूरा पाइप भी बिछा कर छोड़ दिया गया है। सरकार की नल जल योजना असनी पंचायत के वार्ड 10 के लोगों के लिए बेमतलब साबित हो रही है। ग्रामीणों ने कहा कि योजना की जानकारी तो पंचायत प्रतिनिधि  को  दिया गया था फिर भी पंचायत प्रतिनिधि नहीं सुनते हैं।