Headlines
Loading...
जिलाधिकारी  कुमार रवि ने बाढ़ आपदा की बैठक हिंदी भवन सभागार में की तथा संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया।

जिलाधिकारी कुमार रवि ने बाढ़ आपदा की बैठक हिंदी भवन सभागार में की तथा संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया।


बैठक में जिलाधिकारी ने कोषांग के गठन, तटबंधों की सुरक्षा एवं सुदृढ़ीकरण,  मेडिकल टीम का गठन एवं जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता, पशु चारा की उपलब्धता, नाव का पंजीकरण करने नाविकों की सूची तैयार करने, गोताखोरों को  प्रशिक्षण देने,  कम्युनिकेशन प्लान तैयार करने आदि बिंदुओं पर समीक्षा की गई।बैठक में जिलाधिकारी ने आपदा प्रबंधन विभाग के मानक संचालन प्रक्रिया के तहत संबंधित विभाग द्वारा किए जाने वाले कार्यों के बारे में जानकारी प्राप्त की तथा संबंधित विभाग के अधिकारियों को विभागीय दिशा निर्देश के अनुरूप अविलंब कार्य  पूरा  करने का निर्देश दिया।
उन्होंने मानसून की आहट को देखते हुए बाढ़ पूर्व की पुख्ता तैयारी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।
प्रत्येक अंचलाधिकारी को अपने अपने अंचल मैं सरकारी तथा निजी नावों को कार्यरत अवस्था में तैयार रखने तथा रिपेयर योग्य नावों की मरम्मति कराने का निर्देश दिया। उन्होंने नावों का पंजीकरण कराने तथा नाविकों का नाम पता एवं मोबाइल नंबर सहित सूची तैयार करने का निर्देश दिया।
जिलाधिकारी ने अंचल वार गोताखोरों की सूची तैयार करने तथा उनका समुचित प्रशिक्षण की व्यवस्था सुनिश्चित कराने को कहा। जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र हेतु अंचलवार मेडिकल टीम गठित करने तथा डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी की प्रतिनियुक्ति करने का निर्देश दिया। साथ ही हैलोजन टेबलेट, क्लोरीन टेबलेट ,सांप काटने की दवा सहित अन्य जीवन रक्षक दवा की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा।जिलाधिकारी ने  वृहत एवं उपयोगी कम्युनिकेशन प्लान की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के प्रत्येक गांव के पंचायत प्रतिनिधियों एवं प्रमुख व्यक्तियों का नाम मोबाइल नंबर अंकित करने का निर्देश दिया ताकि बाढ़ के समय आवश्यकता पड़ने पर संबंधित क्षेत्र के व्यक्तियों से आवश्यक समन्वय बनाया जा सके। साथ ही प्रखंड ,अनुमंडल, जिला स्तरीय अधिकारियों कर्मियों एवं जनप्रतिनिधियों के मोबाइल नंबर का संधारण करने का निर्देश दिया।जिलाधिकारी ने तटबंधों की सुरक्षा एवं सुदृढ़ीकरण हेतु अनुमंडल पदाधिकारी एवं कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण को संयुक्त रूप से निरीक्षण करने तथा आवश्यकतानुसार मरम्मति की कार्रवाई पूरा करने को कहा। उन्होंने पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र की सड़कों की समुचित मरम्मति की कार्रवाई अविलंब पूरा करने का निर्देश दिया।उन्होंने पशुचारा की उपलब्धता हेतु आवश्यक कार्रवाई करने तथा पशुओं के लिए आश्रय स्थल का चयन करने एवं पशुओं के लिए आवश्यक दवा की व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश जिला पशुपालन पदाधिकारी को दिया।इसके अतिरिक्त शरण स्थली का चयन करने, पॉलिथीन जनरेटर सहित कई अन्य सामग्री की व्यवस्था हेतु अपेक्षित कार्रवाई शीघ्र करने का निर्देश दिया।उन्होंने जिला सांख्यिकी पदाधिकारी को वर्षा मापक यंत्र का अंचलवार स्थिति स्पष्ट करने तथा यंत्र को कार्यरत अवस्था में रखने का निर्देश दिया।
जिलाधिकारी ने कम वर्षापात की स्थिति में  तथा वर्षा कम होने की स्थिति में जिला में सूखा के लिए भी सभी आवश्यक तैयारी पूर्व से कर लेने की जरूरत है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को सुखाड़ के लिए भी तैयार रहने तथा अपेक्षित कार्रवाई समय से पूर्व पूरा कर लेने का निर्देश दिया।
बैठक में उप विकास आयुक्त श्री रिची पांडे, अपर समाहर्ता आपदा श्री मृत्युंजय कुमार, अपर समाहर्ता राजस्व श्री राजीव श्रीवास्तव ,अनुमंडल पदाधिकारी सदर श्री तनय सुल्तानिया, अनुमंडल पदाधिकारी दानापुर बाढ़ मसौढ़ी पालीगंज  सभी अंचलाधिकारी सहित कई जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।