Headlines
Loading...
डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने लाइव आकर फेसबुक के माध्यम से, गोपालगंज ट्रिपल मर्डर मामले पर कही यह बात।।

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने लाइव आकर फेसबुक के माध्यम से, गोपालगंज ट्रिपल मर्डर मामले पर कही यह बात।।


पटना : पिछले दिनों गोपालगंज में हुए ट्रिपल मर्डर मामले में बढ़ रही सियासती गर्मी के बीच डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने अपनी चुप्पी तोड़ी है।
 पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ने फेसबुक लाइव के माध्यम से कहां है प्रत्यक्षदर्शी के बयान के मुताबिक घटनास्थल पर जदयू विधायक पप्पू पांडे स्वयं उपस्थित नहीं थे। उन्होंने कहा पप्पू पांडे ने साजिश जरूर रची है इसके पीछे उसने अपना तर्क भी दिया है। प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक वारदात के 4 दिन पहले पप्पू पांडे के द्वारा जान से मारने की धमकी दी गई थी। घटनास्थल पर मौजूद जिन तीन लोगों के बारे में प्रत्यक्षदर्शी जेपी चौधरी ने बताया है उन लोगों में से तत्काल दो को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि एक की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि जहां तक विधायक पप्पू पांडे की बात है तो विधायक के बारे में खुद प्रत्यक्षदर्शी नहीं कहा है कि वह घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे। हालांकि इस हत्याकांड की साजिश उन्होंने ही रची है। प्रत्यक्षदर्शी के बयान के आधार पर साजिश के बिंदु पर जांच जारी है। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि एसआईटी और गोपालगंज पुलिस साक्ष्य इकट्ठा करने में लगी है मगर इस काम को पूरा करने में समय लगता है। डीजीपी ने कहा कि आज तक जात पात के नाम पर किसी भी अपराधी को संरक्षण नहीं दिया यदि यह बात कोई साबित कर देगा तो वह नौकरी छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि अपने सेवाकाल में वे लालू प्रसाद, राबड़ी देवी के   मुख्यमंत्रीत्व काल में  काम किया अब वे नीतीश कुमार के साथ काम कर रहे हैं। राज्य की कमान किसी के हाथ में रही हो उन्होंने हमेशा पूरी ईमानदारी निष्ठा के साथ अपना काम किया। उन्होंने कहा कि उन्हें पुलिस सेवा में आए तकरीबन 35 साल हो गए, वह कम से कम 10 जिलों में एसपी और 20 जिलों में आईजी, डीआईजी रहे। उनके कार्यकाल में के लंबे इतिहास में किसी भी वक्त उन पर जात पात या संप्रदाय के नाम पर भेदभाव करने का कोई आरोप कहीं नहीं लगा। उन्होंने कहा कि अपने सेवाकाल में कई चुनाव कराए हैं परंतु आज तक उन पर किसी पार्टी विशेष का मदद पहुंचाने या जात जमात को मदद करने का भी कोई आरोप नहीं लगा।
 ज्ञात हो गोपालगंज ट्रिपल मर्डर मामले में राजद समेत तमाम विपक्षी पार्टियां सरकार और पुलिस विभाग को कटघरे में खड़ा करती आ रही है।

धीरज झा