Headlines
Loading...
मुजफ्फरपुर (बिहार) : छात्र-छात्राओं,नौजवानों, इंसाफ मंच व माले कार्यकर्ताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमा वापस ले सरकार।।

मुजफ्फरपुर (बिहार) : छात्र-छात्राओं,नौजवानों, इंसाफ मंच व माले कार्यकर्ताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमा वापस ले सरकार।।

*मुजफ्फरपुर (बिहार) : छात्र-छात्राओं,नौजवानों, इंसाफ मंच व माले कार्यकर्ताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमा वापस ले सरकार*

अजय कुमार
मुजफ्फरपुर : इंकलाबी नौजवान सभा व इंसाफ मंच के कार्यकर्ता शहीद खुदीराम बोस स्मारक स्थल पर प्रदर्शन के साथ सत्याग्रह पर बैठे। उन्होंने मिठनपुरा थाना प्रभारी भागीरथ प्रसाद की मिलीभगत से इंसाफ मंच के राज्य अध्यक्ष सह माले नगर सचिव सूरज कुमार सिंह, इंकलाबी नौजवान सभा के राष्ट्रीय पार्षद सह जिला सचिव राहुल कुमार सिंह तथा आइसा की छात्राओं सहित माले कार्यकर्ताओं पर दर्ज झुठे मुकदमें को वापस लेने की मांग नीतीश सरकार से की।

उन्होंने मिठनपुरा थाना प्रभारी के नेतृत्व में 11अगस्त की आधी रात में पुलिस लाइन कन्हौली स्थित मुहल्ले के घरों में घुसकर दर्जनों पुलिस द्वारा उत्पात मचाने, महिलाओं व लड़कियों के साथ मारपीट कर घायल करने तथा छात्राओं व महिलाओं के साथ बदसलूकी तथा घटिया आरोप लगाने की तीखी भर्त्सना की। उन्होंने मिठनपुरा थाना प्रभारी को बर्खास्त करने की जोरदार मांग भी सरकार से की। माले कार्यालय पर हुए हमले को राजनीतिक साजिश बताते हुए हमलावरों को अविलंब गिरफ्तार करने की मांग भी उठाई गई।

सत्याग्रह व प्रदर्शन में इंकलाबी नौजवान सभा के जिला अध्यक्ष विवेक कुमार,सैफी करीमी, तौकीर आलम, फैसल, इंसाफ मंच के उपाध्यक्ष जफर आजम, ई.रेयाज खान कामरान रहमानी, मतलुबूर रहमान, इम्तियाज अर्शी सहित अन्य नौजवान व कार्यकर्ता शामिल थे।

इस दौरान इनौस व इंसाफ मंच के कार्यकर्ताओं ने कहा कि विधान सभा चुनाव के निकट आते ही सरकार विरोधी माले कार्यकर्ताओं और छात्र-नौजवानों को निशाना बनाया जा रहा है। माले कार्यालय पर हमला तथा छात्र-नौजवानों सहित माले नेताओं-कार्यकर्ताओं को झुठे मुकदमें में फंसाना  एक राजनीतिक साजिश के तहत किया गया है। इसके खिलाफ लगातार जारी आंदोलन के बावजूद न मिठनपुरा थाना प्रभारी भागीरथ प्रसाद पर कोई कारवाई हुई है न माले कार्यालय पर हमला करने वाले को गिरफ्तार किया गया है। उल्टे झुठे मुकदमें में फंसाये गए लोगों के घर में घुस पुलिसिया आतंक जारी है।

उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार लोकतंत्र तथा जनता के अधिकारों के लिए लड़ने वाली लोकतांत्रिक शक्तियों को निशाना बना रही है। इंसाफ के लिए लड़ाई जारी रहेगी।