Headlines
Loading...
हज़ारीबाग़ (झारखंड) : सूचना भवन सभागार में जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक हुई संपन्न,अपने कार्यो का मूल्यांकन कर ससमय लक्ष्य पूरा करें बैंक- उपायुक्त।।।

हज़ारीबाग़ (झारखंड) : सूचना भवन सभागार में जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक हुई संपन्न,अपने कार्यो का मूल्यांकन कर ससमय लक्ष्य पूरा करें बैंक- उपायुक्त।।।

हज़ारीबाग़ (झारखंड) : सूचना भवन सभागार में जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक हुई संपन्न,अपने कार्यो का मूल्यांकन कर ससमय लक्ष्य पूरा करें बैंक- उपायुक्त।।

By: बिहार/झारखंड ब्यूरो चीफ धीरज झा

हजारीबाग संवाददाता आशीष कृष्णन की रिपोर्ट

हजारीबाग : उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद की अध्यक्षता में सूचना भवन सभागार में सोमवार को जिला स्तरीय परामर्शदात्री समिति की बैठक हुई। बैठक में बैंक ऋण वितरण, वित्तीय समावेशन, किसानों के केसीसी सुचुरेशन और उद्यमिता प्रोमोशन को केन्द्रित राज्य और केंद्र प्रायोजित योजनाओं की वित्तीय वर्ष 2020-21 की प्रथम तिमाही में हुई प्रगति की समीक्षा की गई।

इस अवसर पर ऋण/जमा अनुपात, वार्षिक ऋण योजना से संबंधित चालू वित्तीय वर्ष की उपलब्धियों की समीक्षा, किसान क्रेडिट कार्ड, सूक्ष्म एवं लघु तथा मध्यम उद्योग की समीक्षा, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, स्वयं सहायता समूह, शहरी स्वरोजगार कार्यक्रम, ग्रामीण स्वरोगार प्रशिक्षण केन्द्र के द्वारा भेजे गए आवेदन तथा बैंकों द्वारा की गई स्वीकृति, वित्तीय समावेशन एवं प्रधानमंत्री जनधन योजना, स्कूली बच्चों का खाता खोलने, खाते में आधार सीडिंग, पीएम किसान के लाभुकों को केसीसी देने आदि अन्यान्य विषयों पर विस्तारपूर्वक समीक्षा की गई।

बैठक को संबोधित करते हुए उपायुक्त ने कहा कि वित्त मंत्रालय, भारत सकरार के निर्देशानुसार सभी पीएम किसान पोर्टल पर पंजीकृत किसानों को केसीसी का लाभ देना है। उन्होंने सभी बैंकों को ऐसे सभी किसानों की पहचान कर उनके त्वरित रूप से केसीसी स्वीकृत करने का निर्देश दिया। मौके पर बताया गया कि लगातार चैथी/पांचवी तिमाही में ऋण जमा अनुपात मानक 40 प्रतिशत से कम रहा है। उन्होंने किसान क्रेडिट कार्ड के अंतर्गत दिए जाने वाले ऋण के अनुपात में लक्ष्य के अनुरूप कमी पर नाराजगी जताई।

वहीं उपायुक्त ने कहा की सभी बैंक प्रतिनिधि संजिदा होकर कार्य करें। समय समय पर बैंक अपने कार्यो का मूल्यांकन कर लक्ष्यों के अनुरूप कार्य को ससमय पूरा करें। लोन सम्बन्धी मामलो पर विशेष ध्यान दे, राज्य सरकार के योजनाओ को प्राथमिकता के साथ पूर्ण करें। मौके पर नाबार्ड और अन्य सरकारी योजनाओं के अन्तर्गत उपलब्ध अनुदानों का लाभ लेकर ऋण वितरण में तेजी लाने का निर्देश दिया गया। इसके लिए एक टार्गेट आधारित एक्शन प्लान बनाकर बैंक और प्रखण्डवार माॅनिटरिंग किये जाने की बात कही।

वहीं मौके पर अग्रणी बैंक प्रबंधक ने बताया की वित्तीय वर्ष 2020-21 में जिले के वार्षिक साख योजना के अंतर्गत जिले में बैको के द्वारा जून तिमाही 2020-21 तक कुल 220.11 करोड़ ऋण वितरित किये गए है जो कुल लक्ष्य का 13 प्रतिशत है। जिले के साख अनुपात में न्यूनतम लक्ष्य प्राप्ति पर उपायुक्त ने नाराजगी जताई। मौके पर बैंक प्रतिनिधियों ने बताया की जून तिमाही में में 3998 किसानों के बीच रु 15.28 करोड़ का ऋण वितरित किया गया है। वहीं मुद्रा योजना में जून तिमाही में बैको के द्वारा 3866 लाभुकों के बीच रु 22.06 करोड़ ऋण वितरित किया गया जिसमे शिशु ऋण में 3349 लाभुको को 6 करोड़, किशोर ऋण में 417 लाभुकों को 8.5 करोड़ और तरुण ऋण में 100 लाभुकों को 7.56 करोड़ रू. वितरित किया गया।

वहीं मौके पर डीडीसी अभय कुमार सिन्हां एवं डीडीएम नाबार्ड ने प्रखण्ड स्तरीय बैंकर्स समिति की मीटिंग नियमित कराने और उनका सार अगली मीटिंग में रखने पर विशेष जोर दिया। एक स्टैंडर्ड कलेंडर के रूप में जून तिमाही के लिए 15 जुलाई से 15 अगस्त, सितंबर तिमाही के लिए 15 अक्टूबर से 15 नवंबर, दिसंबर तिमाही के लिए 15 जनवरी से 15 फरवरी एवं मार्च तिमाही के लिए 1 से 31 मई का प्रस्ताव दिया गया। डीडीसी ने आरसेटी की अनुपस्थिति को संज्ञान में लेते हुए अगली बैठक में उनकी उपस्थिति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। साथ ही सभी बैंकर्स से बारी बारी केसीसी लोन, प्रधानमंत्री मुद्रा ऋण, एसएचजी ऋण वितरण पर स्टेटस पूछा गया।

बैठक में उप महाप्रबंधक आर.बी.आई, महाप्रबंधक जिला उधोग केंद्र, जिला मत्स्य पदाधिकारी, जिला गव्य पदाधिकारी, विभिन्न बैको के जिला समन्वयक उपस्थित थे।