Headlines
Loading...
पटना (बिहार) : खाकी उतार खादी पहने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे,ली जदयू की सदस्यता।।

पटना (बिहार) : खाकी उतार खादी पहने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे,ली जदयू की सदस्यता।।

 पटना (बिहार) : खाकी उतार खादी पहने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे,ली जदयू की सदस्यता।।



रिपोर्ट: बिहार झारखंड ब्यूरो चीफ़ धीरज झा



पटना : बिहार में चुनाव का विगुल बज गया। पार्टियां तैयारियों में जुट गई। चुनाव की तारीख भी तय हो गई। इसी बीच तमाम अटकलों के बाद बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने आज काशी के पंडित के द्वारा बताए गए समय के अनुसार जदयू की सदस्यता ग्रहण कर ली। बताते चलें पिछले दिनों अपनी नौकरी से स्वैच्छिक रूप से इस्तीफा देने वाले गुप्तेश्वर पांडे शनिवार को जदयू कार्यालय में आकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी और आज रविवार को काशी के पंडित द्वारा दिए गए शुभ मुहूर्त शाम 4:30 से लेकर 5:30 के बीच जदयू की सदस्यता ग्रहण की। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुप्तेश्वर पांडे को सदस्यता दिलवाई। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, सांसद ललन सिंह, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी मौजूद थे।



सदस्यता ग्रहण करने के बाद गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि मुझे खुद मुख्यमंत्री ने बुलाया था और पार्टी में शामिल होने के लिए भी कहा था। मैं राजनीति नहीं समझता हूं मैं एक साधारण व्यक्ति हूं। जिसने अपना समय समाज के निम्न वर्ग के लिए काम करने में बिताया है।

 पूर्व डीजीपी ने कहा कि अपराध और भ्रष्टाचार के खिलाफ नीतीश कुमार की रणनीति ने काफी प्रभावित किया है इसलिए जदयू की सदस्यता ग्रहण करके उनके साथ काम करने का फैसला किया है।


जदयू नेता गुप्तेश्वर पांडे ने कहा चुनाव के बारे में अभी कुछ नहीं सोचा है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का जो भी निर्णय होगा मुझे मान्य होगा। दल के आदेश के अनुसार ही मैं भविष्य में काम करूंगा। चुनाव लड़ना है या नहीं यह मेरा नहीं दल का फैसला होगा।


 विदित है 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी ने 22 सितंबर की देर शाम वीआरएस ले लिया था। वीआरएस लेने से पहले ही भी मीडिया में गुप्तेश्वर पांडे के राजनीति में शामिल होने की खबरें काफी चर्चित रही थी। इससे पहले से ही उनके मन में राजनीतिक हिलोरे मचल रहे थे। वे एक दशक पहले भी बक्सर से भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने को इच्छुक थे। इसके लिए भी उन्होंने वीआरएस ले लिया था। लेकिन उस समय बात नहीं बनी थी उसके बाद फिर उन्होंने नौकरी ज्वाइन कर ली थी।

0 Comments: