Headlines
Loading...
जीबीएम की छात्राओं ने पोलियो के बारे में लोगों को किया जागरूक।।

जीबीएम की छात्राओं ने पोलियो के बारे में लोगों को किया जागरूक।।

 जीबीएम की छात्राओं ने पोलियो के बारे में लोगों को किया जागरूक।।

गया

आशीष कुमार

गौतम बुद्ध महिला कॉलेज में राष्ट्रीय सेवा योजना, मगध विश्वविद्यालय, बोधगया द्वारा जारी निर्देशानुसार आयोजित पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान के तहत कॉलेज की छात्राओं ने लोगों को पोलियो के बारे में जागरूक किया। जीबीएम की एनएसएस ईकाई द्वारा आयोजित इस अभियान की अगुवाई करते हुए प्रधानाचार्य प्रो जावेद अशरफ ने कहा कि पोलियो विषाणुजनित संक्रामक रोग है, जो मूल रूप से एक से पाँच वर्ष की आयु के बच्चों को प्रभावित करता है। अतः सभी माता-पिता का यह कर्तव्य है कि वे अपने बच्चों को पोलियोमुक्त रखने हेतु "दो बूंद ज़िंदगी के" अवश्य पिलाएं।


इस अभियान के तहत कॉलेज की छात्राओं ने कोविड-19 प्रॉटोकॉल का ध्यान रखते हुए स्वनिर्मित पोस्टरों के माध्यम से आस-पड़ोस के लोगों को पोलियो के खतरे और उससे बचाव के बारे में जानकारियां दीं। "हम हैं पोलियो के सिपाही, अब न होगी पोलियो से तबाही", "दो बूंद ज़िंदगी के पिलाओ, अपने बच्चों को पोलियो से बचाओ", "स्टॉप पोलियो, सेव कन्ट्री" जैसे नारों की मदद से छात्राओं ने कॉलेज के शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को भी देश के भविष्य को पोलियो से सुरक्षित रखने के उपाय बताए। जागरूकता कार्यक्रम में  शामिल डॉ शगुफ्ता अंसारी के कहा कि भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन वैश्विक पोलियो उन्‍मूलन प्रयास के परिणामस्‍वरूप 1995 में पल्‍स पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम आरंभ किया गया था। डॉ कुमारी रश्मि प्रियदर्शनी ने कहा कि इस अभियान के अंतर्गत हर वर्ष दिसम्‍बर और जनवरी माह में 5 वर्ष से कम आयु के सभी बच्‍चों को ओरल पोलियो टीके की दो खुराकें दी जाती हैं। सरकार द्वारा किये गये इन प्रयत्नों के फलस्वरूप भारत में पोलियोमाइलिटिस की दर में काफी कमी आई है। हमारा भारत पोलियो से मुक्त हो, देश के सभी बच्चे स्वस्थ और सुरक्षित हों, हम सबका यही ध्येय है। मौके पर मौजूद अंग्रेजी विभागाध्यक्ष प्रो उषा राय, संगीत विभागाध्यक्ष डॉ नूतन कुमारी, हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ किरण बाला सहाय, दर्शनशास्त्र विभागाध्यक्ष डॉ जया चौधरी, डॉ पूजा, डॉ पूजा राय ने भी पोलियो के संबंध में अपने विचार रखते हुए कार्यक्रम की सफलता पर छात्राओं को शुभकामनाएं दीं। इस अभियान में छात्रा नमन्या रंजन, ईशा शेखर, मोनिका मेहता, तान्या, ज्योति आदि की भूमिका अत्यंत सराहनीय रही।

0 Comments: