Headlines
Loading...
एनसीसी निदेशालय बिहार और झारखंड ने मोबाइल एप्लिकेशन 'एनसीसी इवेंट एंड ट्रेनिंग मैनेजमेंट एप्लीकेशन' (NETSA)लॉन्च किया ।।

एनसीसी निदेशालय बिहार और झारखंड ने मोबाइल एप्लिकेशन 'एनसीसी इवेंट एंड ट्रेनिंग मैनेजमेंट एप्लीकेशन' (NETSA)लॉन्च किया ।।

 एनसीसी निदेशालय बिहार और झारखंड ने मोबाइल एप्लिकेशन 'एनसीसी इवेंट एंड ट्रेनिंग मैनेजमेंट एप्लीकेशन' (NETSA)लॉन्च किया ।।

पटना 

डिजिटल इंडिया मिशन को ध्यान में रखते हुए आज पटना के अधिवेशन  भवन में आयोजित एक समारोह में बिहार के स्वास्थ्य, पथ निर्माण,कला-संस्कृति एवं युवा मामलों के मंत्री मंगल पांडे द्वारा ऑनलाइन एनसीसी इवेंट एंड ट्रेनिंग शेड्यूल ऐप (NETSA) लॉन्च किया गया।


इस अवसर पर  मंत्री ने NCC निदेशालय बिहार और झारखंड को NETSA ऐप लॉन्च करने के लिए बधाई देते हुए कहा कि इससे NCC की पहुंच को अधिक छात्रों और कैडेटों तक पहुंचाएगा जा सकेगा। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की कि इस ऐप को बिहार राज्य की एक टीम ने अपनी धरती पर विकसित किया है। समारोह में उपस्थित बिहार के  शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने अपने संबोधन में इस पहल की सराहना की और कहा कि उनका मंत्रालय राज्य में कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में एनसीसी को च्वाइस बेस्ड क्रेडिट कोर्स के रूप में शामिल करने के लिए पूरा समर्थन देगा। उन्होंने लड़कियों से आह्वान किया कि वे और अधिक संख्या में एनसीसी में शामिल हों। उन्होंने बताया कि  बिहार पहले से ही महिला सशक्तीकरण में अग्रणी है और बिहार पुलिस में उनकी सर्वोच्च भागीदारी है


मेजर जनरल एम इंद्रबालन, एडीजी एनसीसी निदेशालय बिहार और झारखंड ने बताया कि इस ऐप के आने से बिहार राष्ट्रीय डिजिटलीकरण मानचित्र पर अन्य 17 एनसीसी निदेशालयों से आगे हो जायेगा।


एनसीसी निदेशालय बिहार और झारखंड द्वारा इस ऐप की अवधारणा विशेष रूप से बिहार और झारखंड राज्य में  एनसीसी के प्रशिक्षण, कार्यक्रमों और नामांकन प्रक्रिया के प्रबंधन को डिजिटल बनाने के लिए है। इस ऐप का एक सबसे बड़ा लाभ स्वचालित फीडबैक का होगा।  आवेदक छात्र या कैडेट अपने मोबाइल फोन के माध्यम से अपने आवेदन की प्रगति और प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए चुने जाने  के बारे जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। साथ ही इससे  कैडेटों के रिकॉर्ड को बनाए रखने और भविष्य में संदर्भ के लिए डेटाबेस का उपयोग करने की एक तेज़, पारदर्शी और एक कुशल प्रणाली बन सकेगी । वर्तमान मैनुअल प्रणाली में, कैडेटों को आगामी प्रशिक्षण, चयन और नामांकन की घटनाओं की समय पर सूचना नहीं मिलती है। यह ऐप पूरी प्रक्रिया को कुशल, पारदर्शी, जवाबदेह और कैडेट के लिए सुलभ बना देगा । 


यह उन कैडेटों के विश्वसनीय डेटाबेस के निर्माण में भी सक्षम होगा, जिन्हें बाद में एनसीसी में कई अन्य प्रक्रियाओं के लिए उपयोग किया जा सकता है। इस ऐप से 90,000 कैडेट, 891 शैक्षणिक संस्थान, 488 एएनओ, 47 एनसीसी यूनिट और 6 एनसीसी ग्रुप मुख्यालय लाभान्वित होंगे।


इस अवसर पर प्रधान सचिव शिक्षा संजय कुमार, सचिव सूचना प्रौद्योगिकी, संतोष कुमार मल्ल, ब्रिगेडियर प्रवीण कुमार, ब्रिगेडियर रंजीब सान्याल और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

0 Comments: