Headlines
Loading...
ज़िला प्रशासन से आग्रह पर आग्रह करना नही आया काम, अब मुख्यमंत्री से समस्या के समाधान की अपील।।

ज़िला प्रशासन से आग्रह पर आग्रह करना नही आया काम, अब मुख्यमंत्री से समस्या के समाधान की अपील।।

 ज़िला प्रशासन से आग्रह पर आग्रह करना नही आया काम, अब मुख्यमंत्री से समस्या के समाधान की अपील।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--हायाघाट का बिलासपुर गाँव शुरू से उपेक्षा का शिकार रहा है। हालांकि यहाँ घर घर मे हर दलों के जिलास्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर के नेता भरे पड़े है बावजूद इसके समस्या जस की तस बनी है। हाँ इतना ज़रूर है कि यहाँ के स्थानीय लोगों ने अभी तक उम्मीद नही हारी है। मामला है पूरे गाँव का जलमग्न रहना। बरसात के दिनों में पूरा गाँव झील में तब्दील हो जाता है। लेकिन स्थानीय प्रशासन से लेकर जिलाप्रशासन द्वारा अभी तक कोई ठोस कदम नही उठाया है। इसी मुद्दे को लेकर कांग्रेस के जिला प्रवक्ता साजिद हुसैन ने मुख्यमंत्री को आवेदन दिया है। उन्होंने अपने आवेदन में लिखा है कि नवगठित नगर पंचायत हायाघाट के साथ-साथ बिलासपुर गांव की दशा बहुत ही दयनीय हो चुकी है। यह गांव नवगठित नगर पंचायत हायाघाट होने के बाद यतीम हो चुका है। इस नगर पंचायत हायाघाट का सारा सिस्टम फेल हो चुका है। सारा विकास का काम रुक गया है। बाढ़ग्रस्त होने के बाद भी अभी तक किसी भी तरह की कोई सुविधा व राहत नहीं मिली है, जबकि सुलिस गेट से गांव में पानी भर चुका है। हर घर, हर रास्ते-गली पर पानी है। गांव से पानी निकासी की कोई समुचित व्यवस्था अब तक नहीं है जबकि 13 अगस्त सन 1987 ईस्वी के पहले बाढ़ व गंदे नाले का पानी निकासी के लिए बिलासपुर गांव में पुल था। हम ने दिनांक 24/06/21 को एक पत्र, (पत्रांक 64/ 21) ज़िला मुख्यालय व नगर निगम के अतिरिक्त रेल मंत्री को भी दिया है। लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ है। यह पंचायत ज़िला मुख्यालय दरभंगा, हायाघाट प्रखंड व दरभंगा नगर निगम के त्रिकोणीय में फंसा हुआ है। कहीं से कोई सुविधा की उम्मीद नहीं दिखाई देती? उन्होंने मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि नवगठित नगर पंचायत हायाघाट सहित बिलासपुर गांव पर विशेष कृपा की जाए। स्थानीय ग्रामीण मो.शमा हुसैन, मो.मिंटू खान, मो.चिंटू खान, डॉ खुदादाद अब्दुल अली, शादाब अतिकी सहित कई लोग ने जलनिकासी के स्थायी समधान की अपील की है।

0 Comments: