Headlines
Loading...
माननीय मुख्यमंत्री ने की बाढ़/राहत कार्य की समीक्षा, 05 अक्टूबर तक सचेत रहने के दिए निर्देश।।

माननीय मुख्यमंत्री ने की बाढ़/राहत कार्य की समीक्षा, 05 अक्टूबर तक सचेत रहने के दिए निर्देश।।

 माननीय मुख्यमंत्री ने की बाढ़/राहत कार्य की समीक्षा, 05 अक्टूबर तक सचेत रहने के दिए निर्देश।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--माननीय मुख्यमंत्री, बिहार श्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार के सभी जिलों की बाढ़/सुखाड़ की स्थिति की समीक्षा की गयी। आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बाढ़ व राहत कार्य की स्थिति को पावर प्वांइट प्रेजेंटेशन के माध्यम से प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि बिहार में 03 चरणों में बाढ़ आयी। प्रथम चरण 13 जून से 17 जून, द्वितीय चरण 01 से 07 जुलाई एवं तृतीय चरण 08 से 22 अगस्त 2021 तक विभिन्न नदियों में पानी बढ़ने के कारण उनके समीपवर्ती जिलों में बाढ़ आयी। कुल 25 जिले के 190 प्रखण्ड के 1298 पंचायत बाढ़ प्रभावित रहे। कुल - 16.60 लाख परिवार एवं 69.73 लाख जनसंख्या प्रभावित हुआ, 03 लाख 37 हजार लोक निष्क्रमित हुए। बाढ़ के कारण 53 मनुष्य एवं 83 पशु की मृत्यु हुई। उन्होंने बताया कि बाढ़ प्रभावित परिवारों के बीच बाढ़ सहाय्य अनुदान (जी.आर.) राशि का वितरण किया जा रहा है। अबतक 07 लाख 95 हजार 538 परिवारों के बीच 477 करोड़ 32 लाख रूपये का वितरण किया गया है। बाढ़ के कारण विभिन्न विभागों के कुल - 3763 करोड़ 85 लाख रूपये की क्षति हुई है। कृषि विभाग की क्षति का वास्तविक आकलन 30 सितम्बर के बाद ही किया जा सकेंगा। कृषि विभाग के सचिव द्वारा पावर प्वांइट प्रेजेंटेशन के माध्यम से बाढ़ के कारण हुए फसल क्षति को दर्शाया गया। उन्होंने बताया कि 217 प्रखण्डों के 2824 पंचायतों के 05 लाख 36 हजार 82 हेक्टेयर में फसल क्षति हुई है। इसका वास्तविक आकलन बाढ़ का पानी घटने के बाद ही किया जा सकेगा।माननीय मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन विभाग एवं कृषि विभाग को संयुक्त रूप से क्षेत्र का मुआयना करवाकर प्रतिवेदन को दुरूस्त करने का निर्देश दिये। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण संगठन विभाग के सचिव ने बताया कि बाढ़ के दौरान सूबे में 1636 नये चापाकल तथा 4804 नये शौचालय का निर्माण कराया गया है। कुल - 55 हजार 736 चापाकलों की मरम्मति करायी गयी है। 32 हजार 811 चापाकलों को संक्रमण रहित किया गया। पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग के सचिव ने बताया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पशु शिविरों में 03 लाख 75 हजार 393 पशुओं को रखा गया। सरकार द्वारा 05 अक्टूबर तक सचेत रहने की सूचना दी गई है।

0 Comments: