Headlines
Loading...
शत प्रतिशत वैक्सीन लेने वाले 10 गांव के लिए सिद्धार्थ कैम्पेशन ने दिया एम्बुलेंस व चापाकल, डीएम ने हरी झंडी दिखाकर शुरु किया एम्बुलेंस।

शत प्रतिशत वैक्सीन लेने वाले 10 गांव के लिए सिद्धार्थ कैम्पेशन ने दिया एम्बुलेंस व चापाकल, डीएम ने हरी झंडी दिखाकर शुरु किया एम्बुलेंस।

 शत प्रतिशत वैक्सीन लेने वाले 10 गांव के लिए सिद्धार्थ कैम्पेशन ने दिया एम्बुलेंस व चापाकल, डीएम ने हरी झंडी दिखाकर शुरु किया एम्बुलेंस।।


बोधगया

कोरोना जैसी घातक वैश्विक महामारी के दौरान सिद्धार्थ कंपैशन ट्रस्ट द्वारा चलाई गई मुहिम ‘‘चले गांव की ओर’’ के अन्तर्गत लगभग एक लाख लोगों का टीकाकरण करवाया गया। ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करने के लिए संस्था ने उन्हें उपहारस्वरुप छाता, साड़ी, कुर्ता एवं सुखा खाद्य सामग्री भी प्रदान किया गया। इसके साथ सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों सहित नक्सल प्रभावित क्षेत्र के 10 गांवों में चापाकल भी लगवाया गया। जिससे की ग्रामीणों की जल संबंधित समस्या का निदान हो सके। संस्था के मुहिम के साथ जुड़कर शत प्रतिशत वैक्सीन लेने वाले दस गांव के लिए सोमवार को एक एम्बुलेंस उपलब्ध करवाया गया। जिसका उपयोग पकरिया, पैली, पूर्वी धानगाई, लटकुटा, गिरजा विघा, कोशिला, लुट्टन विगघा व शिवराजपुर के ग्रामीणों के जरुरत पर दिन के 24 घंटे व सप्ताह के सातों दिन निःशुल्क उपलब्ध रहेगा। ग्रामीणों के लिए एम्बुलेंस इंटरनेशनल वियतनामिज बुद्धिष्ट कम्युनिटी के दानदाता जेम्स झाव, क्रिस्टल लाव व सिस्टर ब्लू लॉट्स द्वारा उपलब्ध करवाया गया। जिसका शुभारंभ सोमवार को जिलाधिकारी अभिषेक सिंह व संस्था के चेयरमन विवके कुमार कल्याण द्वारा किया गया।


 इसके पहले डीएम का स्वागत चेयरमैन ने सिलाई मशीन का मोमेंटों एवं खादा देकर किया गया। विवके ने बताया कि संस्था द्वारा महिलाओं को स्वालम्बी बनाने के लिए सिलाई सिखाया जाता है। सिलाई सिखने के बाद महिलाओं कों रोजगार करने के लिए  सिलाई मशीन दी जाति है। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों के लिए शुरु किए गए एम्बुलेंस सेवा उनके घर से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बोधगया या अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल अस्पताल के लिए निःशुल्क किया गया है। इस मौके पर सुनन्दा भंते, मनोरंजन समदर्शी, निसार अहमद, लाल सिंह, संदीप कुमार, विनय कुमार, पप्पू कुमार, बिपिन कुमार, जित्तू कुमार, मुन्ना सिंह सहित गांव के गणमान्य लोग उपस्थित थे।

0 Comments: