Headlines
Loading...
पतोर ओपी कांड संख्या 425/ 21 में जांच कराकर निर्दोष लोगों को दोषमुक्त करने की मांग।।

पतोर ओपी कांड संख्या 425/ 21 में जांच कराकर निर्दोष लोगों को दोषमुक्त करने की मांग।।

 पतोर ओपी कांड संख्या 425/ 21 में जांच कराकर निर्दोष लोगों को दोषमुक्त करने की मांग।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--भाकपा(माले) जिला सचिव बैद्यनाथ यादव एक प्रेस विज्ञपति जारी करते हुए कहा है कि भूमि विवाद को हल करने में स्थानीय स्तर पर थाना व सीओ लापरवाह बने हुए है। जिसके चलते आज जगह जगह खूनी हिंसा की नौवत आ गई है। उन्होंने बहादुरपुर थाना अंतर्गत पतोर ओपी के श्रीराम पिपरा गाँव वाले घटना में निर्दोष लोगों को फसाने के खिलाफ एक ज्ञापन वरीय पुलिस अधीक्षक को सौपा है। इस माध्यम से उन्होंने कहा कि श्रीराम पिपरा गांव में दलित गरीबो को जमीन का पर्चा मिला हुआ है लेकिन आज तक स्थानीय सीओ और थाना की लापरवाही के बजह से जमीन का सीमांकन नही हो पाया और भूमि विवाद के चलते ही 18 अगस्त को मारपीट की घटना हुई है। स्थानीय परचाधारियो द्वारा सीओ को आवेदन देकर जमीन का सीमांकन कराने की मांग की जा चुकी है। लेकिन आज तक इस ओर न सीओ और न ही थाना प्रभारी के द्वारा ध्यान दिया गया और जब मारपीट की घटना हुई तो एक पक्ष के कहने पर ओपी प्रभारी द्वारा महिलाओं को बेहरमी से पिटा गया। जब इस घटना की जानकारी माले नेता को मिली तो बहादुरपुर प्रखंड के पूर्व कार्यकारी प्रमुख व माले नेता हरि पासवान घटना स्थल पर जाकर बीच बचाव कर झगड़ा को शांत करवाया। लेकिन पतोर थाना कांड संख्या में 425/21 में उन्हें नामजद अभियुक्त बना दिया गया है। श्री यादव में वरीय पुलिस अधीक्षक से खुद या सक्षम अधिकारी से पतोर थाना कांड संख्या 424,425, 426/ 2021 मुकदमा की जांच की मांग की है साथ ही साथ परचाधारियो को सुरक्षा देने की मांग की है तथा महिलाओ पर लाठी चलवाने वाले पतोर ओपी प्रभारी को तत्काल निलंबित करने की मांग की है। आगे श्री यादव ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों को राहत देने में आना कानी करने के खिलाफ आंदोलन में सदर सीओ द्वारा मब्बी ओपी के प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। राहत की मांग को लेकर एनएच 57 को जाम करने वाले हजारों लोगों में 44 लोगो को चिन्हित कर एफआईआर कर दिया गया है। एक सप्ताह के अंदर राहत देने का समय भी दिया गया लेकिन अभी तक राहत नही दिया गया।  इसकी भी जांच कराकर उन्हें दोषमुक्त किया जाय।

0 Comments: