Headlines
Loading...
हज़रत आएशा दरसगाहे इस्लामी सिधौली में सहयोग को आगे आए कई लोग, संस्था के प्रयासों की जमकर तारीफ।।

हज़रत आएशा दरसगाहे इस्लामी सिधौली में सहयोग को आगे आए कई लोग, संस्था के प्रयासों की जमकर तारीफ।।

 हज़रत आएशा दरसगाहे इस्लामी सिधौली में सहयोग को आगे आए कई लोग, संस्था के प्रयासों की जमकर तारीफ।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--एक छत के नीचे ग्रामीण परिवेश में हिंदी, उर्दू, अंग्रेजी, गणित, साइंस, अरबी, फ़ारसी और कंप्यूटर विषय की शिक्षा सिर्फ एक संस्था में मिलना आज के समय के लिए बड़ी बात है। जी हाँ आपने सही पढ़ा है। आपको बताते चले कि एपीएम थाना अंतर्गत सिधौली गांव में हज़रत आएशा दरसगाहे इस्लामी नामक एदारे में एक छत के नीचे उपरोक्त सभी विषयों की शिक्षा प्रथम वर्ग से लेकर दसवी वर्ग तक दी जा रही है। आपको जानकर खुशी होगी कि इस सुविधा का लाभ सिधौली ही नही बल्कि आसपास के गांव के बच्चों द्वारा इस संस्था में नामांकन कराकर लिया जा रहा है। बच्चों का नामांकन का सिलसिला लगातार जारी है। गौरतलब हो कि सामर्थ्य परिवार द्वारा इस संस्था में 20 प्रतिशत बच्चों को सशुल्क शिक्षा दी जा रही है जबकि बचे हुए गरीब और असमर्थ परिवार के बच्चों को निशुल्क शिक्षा दिया जा रहा है। उन बच्चों की पढ़ाई की ज़िम्मेदारी के लिए जिले के अलग अलग हिस्से से सहयोग के लिए कई लोगो ने अपना हाथ बढ़ाया है जो काफी प्रशंशनीय है। मो.अबुल हसन, मो. एहतेशाम अंसारी, मो.उमर अंसारी, फ़ैयाज़ आलम, मो.मक़बूल, डॉ. ऐयाज़ आलम, डॉ नवा इमाम, मो.ज़ुबैर, मो.राजा, आफताब शेख, जलालुद्दीन हैदर सहित कई लोगो ने सहयोग कर गरीब और असमर्थ बच्चों का हौसला बढ़ाया है। इन तमाम लोगो ने कहा कि इस संस्था के एक कदम की हम सभी लोग जमकर तारीफ करते है जो हम सभी को अच्छा लगा, वो है बच्चों को लगातार तरबियत करते रहना। अच्छे और बुरे की समझ बताना। पढ़ाने के लिए तो कई एक से बढ़कर एक जगह है लेकिन तरबियत के साथ तालीम हो तो बच्चे यहाँ से अच्छे इंसान बनकर निकलेंगे इसकी तो ज़रूर गारेंटी है! संस्था के प्रिंसिपल मौलाना तनवीर अहमद कासमी, निदेशक मो. ज़ाहिद अनवर, हाफ़िज़ मो.सादुल्लाह और मौलाना नेसार अहमद क़ासमी ने सभी लोगो का शुक्रिया अदा किया है।

0 Comments: