Headlines
Loading...
मौलाना कलीम सिद्दीकी और उमर गौतम की गिरफ्तारी के खिलाफ पटना में आल इंडिया ईमाम काउन्सिल की प्रेस कॉन्फ्रेंस।

मौलाना कलीम सिद्दीकी और उमर गौतम की गिरफ्तारी के खिलाफ पटना में आल इंडिया ईमाम काउन्सिल की प्रेस कॉन्फ्रेंस।

हजरत मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी सरकारी बदमाशी का एक और जघन्य उदाहरण: मुफ्ती इकरामुद्दीन कासमी।



पटना

 इंडिया ईमाम काउन्सिल की ओर से पटना के रिपब्लिक होटल में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया जिसमें काउंसिल  के प्रदेश अध्यक्ष मुफ्ती इकरामुद्दीन कासमी ने मौलाना कलीम सिद्दीकी की गिरफ्तारी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की. यूपीएटीएस असंवैधानिक औरआक्रामक तरीके से काम कर रही है। उन पर धर्मांतरण और बाहरी फंडिंग का आरोप लगाकर इस तरह का कदम उठाना निंदनीय है। एक समुदाय को निशाना बनाकर, दिन-प्रतिदिन मनमानी गिरफ्तारी से देश का शासन कमजोर होगा और लोगों में अविश्वास पैदा होगा।"

एक प्रमुख ्मानव अधिकार संगठन एन  सी एच आर ओ के बिहार राज्य महासचिव डॉ. हिफजुर रहमान  ने सम्मेलन में कहा: ये एक ज़ालिमाना क़दम है जिसके जरिए मुस्लिम समाज को डरा कर उनके मानव कल्याण गतिविधियों को रोकने के लिए एक साजिश रची जा रही है।कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया नेशनल कमेटी के सदस्य सैफूर-रहमान और पटना के समाजी कार्यकर्ता अफजल रहमानी और इमाम काउंसिल के अधिकारियों ने कहा: मौलाना कलीम सिद्दीक़ी  वही हैं जो देश और विदेश में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं और सामाजिक सोहार्द बनाने में एक मजबूत भूमिका निभाते रहे हैं। उन्हें रास्ते में गिरफ्तार करना एक बहुत ही आपराधिक कृत्य है, जिसके पीछे संघ परिवार की साजिश काम कर रही है। मौलाना कलीम सिद्दीकी को तुरंत रिहा किया जाना चाहिए, यूपीएटीएस को अवैध अतिक्रमण के लिए माफी मांगनी चाहिए और यूपी सरकार एटीएस के भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें साथ ही, आल इंडिया ईमाम काउन्सिल अदालत से ऐसी आतंकवादी गिरफ्तारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने करने का आग्रह करती है ताकि देश की अखंडता बनी रहे और अदालत के निष्पक्ष आचरण में देश के सबसे बड़े अल्पसंख्यक का विश्वास बना रहे। सभी राष्ट्रीय संगठनों के नेताओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं और भारतीय जनता से अपील है कि इस तरह की आपराधिक गिरफ्तारी के खिलाफ समय पर आवाज उठाएं।

0 Comments: