Headlines
Loading...
डीएमसीएच बचाओ- एम्स बनाओ जन सम्मेलन हुआ आयोजित।।

डीएमसीएच बचाओ- एम्स बनाओ जन सम्मेलन हुआ आयोजित।।

 डीएमसीएच बचाओ- एम्स बनाओ जन सम्मेलन हुआ आयोजित।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--डीएमसीएच बचाओ- एम्स बनाओ, स्वस्थ बिहार-हमारा अधिकार जन सम्मेलन आज सीएम लॉ कॉलेज में सम्पन्न हुई। सम्मेलन में मुख्य वक्ता भाकपा (माले) पोलित ब्यूरो सदस्य धीरेन्द्र झा, भाकपा(माले) जिला सचिव बैद्यनाथ यादव, नगर सचिव सदीक भारती, भूषन मंडल, कल्याणपुर से महागठबंधन प्रत्याशी रंजीत राम, इनौस जिला सचिव गजेंद्र नारायण शर्मा,धर्मेश यादव आइसा जिला अध्यक्ष प्रिंस राज, ऐपवा जिला अध्यक्ष साधन शर्मा, सहित कई वक्ता ने जन सम्मेलन को सबोधित किया। सम्मेलन का संचालन आइसा राज्य सह सचिव संदीप कुमार चौधरी ने किया। इस अवसर पर धीरेन्द्र झा ने कोरोना काल मे स्वास्थ्य के मोर्चे पर भारत फीसदी साबित हुआ। वक्त का तकाजा है की जनता के आवाज को जन आंदोलन के आवाज के साथ मजबूत किया जाय। उन्होंने कहा कि कोरोना काल मे निजी अस्पताल की पोल खुल गई है। गाँव-गाँव मे काम करने वाले डॉक्टर ने सैकड़ो लोगो की जान बचाई है। आज जरूरत है कि उन  डॉक्टरों को पुरस्कृत किया जाय। उन्होंने कहा कि पूरे भारत देश में मिथिलांचल कमजोर अर्थव्यवस्था वाले क्षेत्र में आता है आज जिसके कारण मिथिलांचल पिछड़ा हुआ इलाका है। उन्होंने कहा कि डीएमसीएच को बचाने का संकल्प के साथ जनता के  अदालत में जाना चाहिए साथ ही साथ उन्होंने कहा कि पूरे देश में जितने जगह एम्स बने हैं वह स्वतंत्र जगह पर बना है लेकिन दरभंगा में डीएमसीएच को बर्बाद कर ऐम्स बनाने की बात चल रही है। उन्होंने सरकार से मांग किया है कि एम्स का निर्माण फोरलेन के बगल में होना चाहिए और जल्द होना चाहिए साथ ही साथ उन्होंने कहा कि डीएमसीएच बचाओ एम्स बनाओ अभियान को तेज करना होगा। श्री झा ने आगे कहा कि बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए प्रखंड, पंचायत स्तर पर स्वास्थ्य केंद्र को मजबूत बनाना होगा उन्होंने सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि नीतीश कुमार की सरकार पटना के 5 किलोमीटर के अंदर सिमटी हुई है।उन्होंने आशा,आंगनबाड़ी व अन्य स्वास्थ्य कर्मी के द्वारा कोरोना काल में किए गए कार्य की प्रशंसा करते हुए सम्मानजनक मानदेय देने की बात कही। इस अवसर पर भाकपा माले जिला सचिव बैद्यनाथ यादव ने कहा कि कोविड-19 में निजी अस्पताल की मनमानी बढ़ गया है। सरकारी अस्पताल की हालत बहुत ही खराब है डीएमसीएच में न्यूरो सर्जन व न्यूरो फिजीशियन नहीं है साथ ही साथ डीएमसीएच जलजमाव का अड्डा बन गया है। श्री यादव ने आगे कहा कि सरकारी अस्पताल व सरकारी संस्थान को बर्बाद करने की साजिश चल रही है पार्टी के आंदोलन के बल पर आज कई स्वास्थ्य उपकेंद्र को चालू किया गया है। चौपट स्वास्थ्य व्यवस्था व नफरत के चलते कई लोगों की जान गई है पूरे करोना काल में जनप्रतिनिधि की भूमिका नगण्य है उन्होंने शहरवासियों से आवाहन किया कि स्वास्थ्य के मुद्दों पर शहर मैं इतना जन आंदोलन को तेज करें कि सड़क की आवाज बिहार विधानसभा के अंदर भी गूंजे। सम्मेलन को संचालित करते हुए आइसा राज्य सह सचिव संदीप कुमार चौधरी ने कहा की स्वास्थ्य का सवाल आज बिहार का सबसे बड़ा सवाल है जिस बिहार में लाखों लोगों की मौत चौपट स्वास्थ्य व्यवस्था की वजह से हो गई उस राज्य का स्वास्थ्य मंत्री बेशर्मी के साथ कह रहा है की कोई मौत ऑक्सीजन की वजह से नही हुआ। वर्षो से बन कर तैयार सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बन कर तैयार है लेकिन आज तक उसे सुरु करने की कोई योजना सरकार और प्रशासन की नही है। स्वस्थ बिहार हमारा अधिकार अभियान को पूरे शहर के वाडो और ग्रामीण इलाके में फैलाते हुए एक बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा। सम्मेलन में जिला कमिटी सदस्य शनिचरी देवी, देवेंद्र साह,केशरी कुमार यादव,रंजन सिंह,रानी सिंह,आइसा नेता मयंक कुमार यादव,ओणम सिंह,अलका कुमारी,सिद्धार्थ राज,सनी कुमार,निखिल कुमार, आमोद अमन,सूफियान आजम,राजेश राम, राजा राम पासवान, मो.गुलाम अंसारी,हसीना खातून, मुन्ना सिंह, मो.मोजिम,दिनेश मंडल सहित सैकड़ों लोग शामिल थे।

0 Comments: