Headlines
Loading...
स्वास्थ्य के क्षेत्र में पारामेडिकल कर्मी काफी महत्वपूर्ण : मोहम्मद अब्दुल्ला।।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में पारामेडिकल कर्मी काफी महत्वपूर्ण : मोहम्मद अब्दुल्ला।।

 स्वास्थ्य के क्षेत्र में पारामेडिकल कर्मी काफी महत्वपूर्ण : मोहम्मद अब्दुल्ला।।



ज़ाहिद अनवर (राजु) / दरभंगा


*दरभंगा*--अभी पिछले दो वर्ष से सारा संसार कोरोना जैसी महामारी से त्रस्त है। जिसका बुरा असर रोजगार, स्वास्थ्य, शिक्षा एवं सभी तरह के कार्यों पर पड़ा है। लाखों लोग बेरोजगार हो गए हैं एवं हजारों हजार की संख्या में लोगों की जानें गई है। इस महामारी में डॉक्टर, नर्सेज एवं पारामेडिकल कर्मियों की भी जानें गई है। यह बातें मोहम्मद अब्दुल्लाह वार्ड पार्षद ने आज मिथिला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड मेडिकल साइंस, अल हिलाल हॉस्पिटल के प्रांगण में छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा। मोहम्मद अब्दुल्लाह ने कहा कि स्वर्गीय डॉक्टर अब्दुल वहाब साहब के दिलों में समाजसेवा करने का जो जज्बा था उसको अब हम लोग के मार्गदर्शक एवं विख्यात समाज सेवक डॉक्टर अहमद नसीम आरजू आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। डॉक्टर आरजू अपने अस्पताल में मरीजों की मदद तो कर ही रहे हैं इसके साथ ही उन्होंने पिछले कई वर्षों से पारामेडिकल की पढ़ाई करवा कर मिथिलांचल में स्वास्थ्य के क्षेत्र में शिक्षा को जगाने का कार्य किया है। इसके लिए हम लोग उनके बहुत बहुत आभारी हैं। छात्रों को संबोधित करते हुए मिथिला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मेडिकल साइंस के निर्देशक (मार्केटिंग एवं प्रमोशन) शाहिद अतहर अधिवक्ता ने कहा कि पिछले दो सत्र में हमारे यहां से पास बहुत सारे छात्र एवं छात्राएं जिला के विख्यात अस्पतालों में जॉब कर रहे हैं। मिथिला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड मेडिकल साइंस की सबसे बड़ी खूबी है कि यह डॉक्टर अहमद नसीम आरजू के निगरानी में चलता है जिनका पूरा परिवार चिकित्सा के क्षेत्र में काम करता है। इनके अल हिलाल अस्पताल में इंस्टिट्यूट होने के कारण से यहां के छात्र-छात्राओं को थीयुरी एवं प्रैक्टिकल के साथ-साथ प्रारंभ से ही इंटर्नशिप कराया जाता है। जिसका सीधा लाभ छात्र-छात्राओं को मिलता है। मिथिला इंस्टिट्यूट के मैनेजर तनवीर इमाम ने सेफ्टी एवं मैनेजमेंट कोर्सेज के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि इस तकनीकी युग में बहुत कम समय एवं कम खर्च में सेफ्टी की पढ़ाई करके देश एवं विदेश में नौकरियां प्राप्त कर सकते हैं। इस अवसर पर शिक्षक गोपी किशन, राजेश यादव, सबीह आलम, मोहम्मद निसार अहमद, मिर्जा बेग, सिददीका खातून इत्यादि का कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा।

0 Comments: